Eternal Universe

The reason why the universe is eternal is that it does not live for itself; it gives life to others as it transforms.

"बुराई " करना रोमिंग की तरह है.
करो तो भी चार्ज लगता है और सुनो तो भी चार्ज लगता है.

                    और...

    "नेकी" करना LIC की तरह है.

              जिंदगी के साथ भी.
            जिंदगी के बाद भी

तो "धर्म" की प्रीमियम भरते रहो
और अच्छे कर्म का "बोनस" पाते रहो......।

खुदा का ठिकाना

ये ना बस्ती में रहता हें ना बिरनो में राहता हें
ये ना काबा मैरहता हें भूतखनो मै रहता हें
खुदा को धुढने वाले नही जानते साखी खुदा आजकल अपने दिवनो मै रहता है।

शुक्रिया

ए गुरुबचन के प्यारो, इस प्यार का है वास्ता
जो कर गए है, एक एक एहसान का है वास्ता
उस त्याग कि कसम, है बलिदान का है वास्ता
कुर्बान कर गए जो, उस प्राण का है वास्ता
भुले से ना भुले, ये उपकार गुरुबचन का

दिल करता है शुक्रिया बार  बार बार  गुरुबचन का......

If you

If you use your mind to study reality, you won't understand either your mind or reality. If you study reality without using your mind, you'll understand both.

सीखने वाली बात

एक बुज़ुर्ग से किसी ने पूछा, "कुछ नसीहत कर दीजिये"।
उन्होंने अजीब सवाल किया, "कभी बर्तन धोये हैं?"
उस शख्श ने हैरान होकर जवाब दिया, "जी धोये हैं"
बुजुर्ग ने पूछा, "क्या सीखा?
उस शख्श ने कहा, "इसमें सीखने वाली बात क्या है?"
बुज़ुर्ग ने मुस्कुराकर जवाब दिया,
"बर्तन को बाहर से कम
अन्दर से ज़्यादा धोना पड़ता है"।
,,,,,,,,,,
हम भी शरीर को धोने में लगे हुए है ।
मन को कब धोएंगे?

As long as we

As long as we believe ourselves to be even the least different from God, fear remains with us; but when we know ourselves to be the One, fear goes; of what can we be afraid?

Bhakti ka sukh

जाति नहीं होती बड़ी ,न ही बड़ा है धर्म|
बड़ा वही इस जगत में,जिसका ऊँचा कर्म||
ग्यान कर्म में ढल जाने से परमात्मा निरंकार की किरपा का आभास होने लगता है और जीवन सरल हो जाता है
भक्ति का सुख मिलना चालू हो जाता है

दर्पण × मन

दर्पण जब चेहरे का दाग दिखाता है, तब हम दर्पण नहीं तोडते बल्कि दाग साफ करते हैं।

उसी प्रकार हमारी कमी बताने वाले पर क्रोध करने के बजाय कमी दूर करना श्रेष्ठ है..!!
धन निरंकार जी!

मै इस काबिल तो नही

"मै इस काबिल तो नही,
कि मेरी पहचान हो,

"मै इस काबिल भी नही,
कि दुनिया मे मेरा नाम हो,

"मै तो दीवाना हूँ ,
बस तेरे चरणों का,

"आरजू है बस ,
मेरे दिल की यही कि,

"तेरे चरणों मे ,
मेरी ज़िंदगी तमाम हो.